Mental Depression in Hindi – Solution & Symptoms – मानसिक अवसाद

What is mental depression in Hindi / जानिए अवसाद क्या है और क्यों होता है

Mental Depression या अवसाद: हम सबको कभी न कभी कई कारणों से होता है. जिससे दिमागी रूप से हम सब काफी आहत होते है. उदासी में व्यक्ति का मन किसी काम में नहीं लगता वह छोटे छोटे काम और में भी असमर्थ महसूस करता है. उसका किसी भी चीज़ में concentrate करने में दिक्कत आती है. किसी किताब का एक पन्ना भी पढने में बहुत ज्यादा समय लगता है कई बार तो कई घंटे लग जाते है. स्वाभाव चिडचिडा होजाता है और साधारण बात में भी व्यक्ति असुविधा महसूस करता है और वह गुस्से से जवाब देता है.

हम सब जॉब में promotion, बच्चों के अच्छे मार्क्स पाने, ख़ुशी के पल में लोगो को खुश देखकर खुद भी खुश हो जाते है. सामान्य घटनाये जो हम लोगो को happiness देती है लेकिन depression से घिरा व्यक्ति इनमें खुश नहीं होता है और वह व्यक्ति जीवन में दिलचस्बी नहीं लेता है. वह अपने कार्य स्थल में पसंद नहीं किया जाता और धीरे धीरे उसके साथ काम करने वाले और घर परिवार के लोग उसके सामने आने में कतराने लगते है.

Types of Mental Depression in Hindi – अवसाद के प्रकार:

Depression कई प्रकार का होता है. मनोचिकित्सक के अनुसार यह मन की वह स्थिति है जब व्यक्ति अत्याधिक उदास हो जाता है. पहली स्थिति में रिऐकटिव डिप्रेशन कही जाती है जिसमे व्यक्ति emotional problems पर serious reactions व्यक्त करता है. दूसरी स्थिति एंडोजेक्स डिप्रेशन की होती है इसका कारन खोज पाना बड़ा ही मुश्किल है. आत्म हत्या करना या आत्म हत्या की इच्छा रखना इस दशा की वजह से हो सकता है.

Depression symptoms in Hindi / Depression ke lakshan Hindi me अवसाद के लक्षण

  • डिप्रेशन (depression) में व्यक्ति को सुबह से ही आलस छाने लगता है.
  • रेडिओ, टीवी, बच्चों का खेलना कूदना अच्छा नहीं लगता है.
  • बिस्तर छोड़ना, शेविंग करना, स्नान करना और अच्छे कपडे पहनना नहीं अच्छा लगता है.
  • किसी प्रकार के काम और खेलकूद में रूचि नहीं लेना.
  • भूख न लगना और रुचिकर और स्वादिष्ट भोजन में भी दिल्चस्बी न लेना.
  • सेक्स में भी रूचि कम हो जाना.
  • रात में नींद के घंटे कम हो जाना.
  • सर में भारीपन रहना और शरीर थका-थका रहना.

दुनिया में जाने माने लोगो को भी depression कभी न कभी हुआ है. जिनके बारे में हो सकता है हमें पता ही ना हो और हम इसको असंभव मानते हो.
Depression-Hindi-me-Avsaad
– प्रसिद्ध अभिनेता दिलीप कुमार को भी ज्यादा tragedy roles की वजह से ही डिप्रेशन depression रह चूका है और उसका इलाज़ उन्होंने विदेश में करवाया था.

– दक्षिण भारत के सुपरस्टार रजनी कान्त भी एक समय अवसाद से घिर गए थे जिससे उनका जीवन काफी प्रभावित हुवा था.

– अपने ज़माने की खुबसूरत हस्ती मीना कुमारी ने भी depression से छुटकारा पाने के लिए शराब का सहारा लिया था और यही उनकी मौत का कारन बनी.

– आज के समय की जानी मानी खुबसूरत अदाकारा दीपिका पदुकोने भी depression का इलाज़ करवा चुकी है और वो इस बारे में लोगो को जागरूक भी करती है.

Depression treatment  / Solution of Depression in Hindi – डिप्रेशन से निदान, इलाज एवं छुटकारा पाने के तरीके :

Depression se Chutkara kaise paye & depression meaning in Hindi

– Serious mental depression को दूर करने के लिए अच्छे मनोचिकित्सक से परामर्श जरूर करना चाहिए.

– अपने आपको अकेला न रहने दे, दोस्तों के साथ बहार जाएँ, लोगों से मिले जुले, गपशप करे.

– सुबह शाम टहलें इससे self confidence grow होगा तथा good health भी रहेगी..

– अपने आप को काम में व्यस्त रखें.

– दिल ही दिल में घुटने की बजाये अपनी बाते किसी विश्वासपात्र या मनोचिकित्सक को जरूर बताये.

– काम को करने के नए तरीके खोजे और नए नए रास्तो से गुजरें.

– यदि आप वास्तव मे दुखी है तो ऐसा अभिनय कीजिये जैसे आप वास्तव में खुश है. सहकर्मियों के साथ हसना स्वस्थ्य के लिए अच्छा है और जब हम रोते है तो कोई नहीं रोता हसने पर दुनिया साथ में हसने को तैयार होजाती है.

– Positive words को बोलिए और art of positive living का फायदा उठाये.

– योग का सहारा ले और अनुलोम विलोम, प्राणायाम, ध्यान को सीखकर जीवन में उतारे.

– Agar आपके पास इन्टरनेट है तो positive stories, thoughts, quotes पढ़ें और इन साईट को सब्सक्राइब करे जिससे आपके मेल में update आइयेंगे और आप रोज़ कुछ positive पढेंगे.

– नीचे 6 Positive Mental Attitude (PMA) books के नाम दिए जा रहे है जिनको आप पढ़े, आपकी life में Good changes जरूर आएंगे :

  1. सकारात्मक सोच की शक्ति,
  2. जीत आपकी,
  3. बड़ी सोच का बड़ा जादू,
  4. आपके अवचेतन मस्तिष्क की शक्ति,
  5. सोचिये और महान बनिए,
  6. रहस्य.

– PMA books को सुबह उठते ही 2 page & रात में सोने के पहले 2 page जरूर पढ़े .

– रात में सोने के 1 hour पहले टीवी बंद कर दे या न देखे. क्योकि टीवी में अगर कुछ negative event देखा है तो वह आपके subconscious mind में प्रोसेस होता रहता है.

इस video को देखिये और जानिए About Mental Depression in Hindi & solution of depression in hindi – kya hai depression ka ilaj

http://indiainfobiz.tumblr.com/post/145041305482

Images Source: Images by photostock & David Castillo Dominici at FreeDigitalPhotos.net

प्रिय दोस्तों,
आज मैंने depression Hindi me – Avsaad (Mental Depression in Hindi) समझाने की कोशिश इस post से की है. इसमें अपने चिकित्सक की मदद जरूर ले. अपने परिवार का सहयोग ले. ये कोई बीमारी नहीं है ये अक मानसिक अवस्था है. जीवन जीने के लिए इस अवस्था से अपने आप को निकलना बहुत जरूरी है.यही depression solution in hindi है.

दोस्तों, Depression in Hindi अपने विचार हमें जरूर लिखे और ज्यादा से ज्यादा share करे, और life में कभी भी अगर आप depress उदास या अवसाद में थे तो कैसे बाहर आये या depression se chutkara पाने के Solution of Depression in Hindi मतलब आपने कौन सा ऐसा स्टेप उठाया इस बारे में हमें जरूर कमेंट comments करके बताइए. ताकि लोग depression से बाहर आ सके और जीवन बेहतर बना सके.

12 thoughts on “Mental Depression in Hindi – Solution & Symptoms – मानसिक अवसाद

  • September 13, 2016 at 8:33 pm
    Permalink

    BP GAYDAA HONAA GHBRAHAT HONAA CHEST PAIN OF MIDDLE ARIA WEEKNES LAGNAA

    Reply
  • November 27, 2016 at 2:28 pm
    Permalink

    बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति …. very nice article …. Thanks for sharing this!! 🙂

    Reply
  • December 31, 2016 at 7:51 pm
    Permalink

    Sir depression ki bahut jada problem ho gayi job chale jaane ke baad plzzz

    Reply
    • January 20, 2017 at 3:00 pm
      Permalink

      Sunny,
      Kya job karte the aap, dusri jon khoj le ya anya kisi kaam ko kare, jyada samay khali na baithe.

      Reply
  • January 6, 2017 at 6:28 pm
    Permalink

    Sir mujhe koi kaam mai man NAHI lagta business bhi band ho gaya kuch acha nahi lagta din bhar thakan lagti hai koi bhi khusi wali felling NAHI hoti chidchada pan hota hai koi kuch kaam ke liye bolta hai koi kaam NAHI banta gussa aata hai ajeeb sa dar man mai laga rahta hai Kya mai depression mai hu

    Reply
    • January 20, 2017 at 2:59 pm
      Permalink

      Ravinder ji aap koi sakaratmak book kharid kar padhiye aur yadi aapke paas mobile hai to usme sakaratmak vakya padhiye. Safalta aur asfalta dono jindagi ka hissa hai.

      Aapka business kya tha aur aapki kya qualifications hai..

      Reply
  • January 15, 2017 at 5:43 am
    Permalink

    Mai khud ko duniya sabse badsurat aur nnikamma insan samazta hun

    Reply
    • January 20, 2017 at 2:56 pm
      Permalink

      Aisa aap galat sochte hai har insaan me qualities hoti hai…

      aap apni 5 quality ya aisi 10 baate bataye jipar aapko garv hai.

      Reply
  • January 31, 2017 at 7:20 pm
    Permalink

    SIR,
    Mera naam manoj bharti hai mera proper native place madhya pradesh (maihar) me hai mai present me wani (maharshtra) area ek coalwashires company me as accountant /cashier ki post me kaam karta hoo kuch 2 mahine se mero ko problams ho rahi thi haath pair sust sust lagna,sirdard dena kabhi kabhi sir halka lagna .kabhi kabhi bhari lagna ,gas jyada banna ,pure body me kampan aana wo bhi bich bich me eske bajah se mai aur darta tha phir baad me mai sevagram hostipital chala gaya wo nagpur ke pass me hai waha pe chekup karaya to baad me pata chala ki mero ko mansik rohg hai phir phi mai haar nahi mana woha se aane ke baad phir mai wani hospital me pura blood test kara to pata chala ki mero ko joundice huya hai wo bhi mera brulian 2.67 bad gaya tha iske bajah se ye problam ho rahi thi iske baad dawa meri chalo hai lekin mero ko aur iske 2 saal pahale mero ko joundice huaa tha mero same problam hue the phir thik ho gayi the lekin ab bhi mero ko kanfuse hai ki sahi me mansik rog hai ya joundice ke bajah se ho raha hai please sir advise kijiye jisse mai is muski se bach sakoo kui mero ko sevagram wala doctor bol diya tha ki apka ko mansi probla hai

    Reply
    • February 1, 2017 at 9:16 pm
      Permalink

      Hi Manoj ji,

      Aapko mansik samasya na hokar anya koi problem hai, apna blood chekup karwate rahe, Thyoride, sugar, Calcium, cholesterol ki bhi janch karwaye.

      Kisi bimari ki wajah se hone wali mansik samasya, bimari thik hone par thik hojati hai. Aap hospital ke bajaye kisi achche physician ko dikhaye jo MBBS+MD ho. Pahle sharirik problem thik kare, swasthya achhha rakhe mansik apne aapthikho jayegi. tension na le.

      Reply
  • March 15, 2017 at 10:12 pm
    Permalink

    Sir mujhe ye samjh nai aara ki mujhe dipression hai ya kuch aur
    Mujhe kuch kam me interest nai aata aur uski wajah se mai uske baare me sochta rehta hoon ki kyon interest nai aara aur usse mai pateshan ho jata hoon
    Aur dicison lene me. Dikkat hoti h…..

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.