YOUR EXISTING AD GOES HERE

BE Full Form | | BTech vs BE Degree | बीई का फुल फॉर्म

YOUR EXISTING AD GOES HERE

Information about BE Full Form & other details

दोस्तों क्या आप जानते है की What is full form of BE in Hindi. आज आपको इस पोस्ट / लेख  में  बी.ई / BE CSE Full Form, Subjects & Branches, Eligibility, Scope, Jops after BE & BE-CSE के बारे में जानकारी देंगे, जिससे आपको इस engineering degree को काफी अच्छे से जानने का मौका मिलेगा.
BE Full Form | BE CSE Means

YOUR EXISTING AD GOES HERE

What is BE Full Form /बी.ई. का फुल फॉर्म क्या है?

B.E. means होता है “Bachelor of Engineering” यही Full form of BE है. । यह एक Professional Undergraduate Academic Degree है जो कि Student को Engineering University में चार-पाँच साल के Course को करने के बाद मिलती है। B.E. Degree को Private या Government University से किया जा सकता है।

YOUR EXISTING AD GOES HERE

IIT (Indian Institute of Technology) और NIT (National Institute of Technology) जैसी कई Government University B. Eng. , B.Tech जैसी कई Professional Technology से related degree करवाती हैं।

What is BE CSE Full Form:

YOUR EXISTING AD GOES HERE

CSE, B.E. की ही एक Branch है इसका means & फुल फॉर्म होता है Computer Science and Engineering। यही BE CSE का Full Form है. इसमें Computer से related Engineering Course कराया जाता है।

Branches in Bachelor of Engineering

भारत में Engineering Universities में B.E. को इन सभी branches में से किसी एक से किया जा सकता है जो कि हैं:

YOUR EXISTING AD GOES HERE
  • Mechanical Engineering (मैकेनिकल इंजीनियरिंग)
  • Civil Engineering (सिविल इंजीनियरिंग)
  • Electrical (and Electronics) (इलेक्ट्रिकल (और इलेक्ट्रॉनिक्स)
  • Electronics (Communications या Telecom) Engineering (इलेक्ट्रॉनिक्स (संचार या दूरसंचार) इंजीनियरिंग)
  • Instrumentation और Control Engineering (इंस्ट्रूमेंटेशन एंड कंट्रोल इंजीनियरिंग)
  • Computer Science Engineering (कम्प्यूटर साइंस इंजीनियरिंग)
  • Information Technology (सूचना प्रौद्योगिकी)
  • Chemical Engineering (केमिकल इंजीनियरिंग)
  • Biotechnology Engineering (जैव प्रौद्योगिकी इंजीनियरिंग)
  • Metallurgical Engineering (धातुकर्म इंजीनियरिंग)
  • Aerospace Engineering (एयरोस्पेस इंजीनियरिंग)
  • Production Engineering (उत्पादन इंजीनियरिंग)
  • Systems Science (सिस्टम विज्ञान)
  • Biochemical Engineering (बायोकेमिकल इंजीनियरिंग)
  • Genetic Engineering (जेनेटिक इंजीनियरिंग)
  • Tool engineering (टूल इंजीनियरिंग)
  • Agricultural Engineering (कृषि इंजीनियरिंग )

Eligibility & Minimum Qualification for BE Degree / वांछनीय योग्यता

Bachelor of Engineering करने के लिए कोई Official Minimum Qualification या Eligibility Criteria Publish नहीं किया गया है फिर भी वह Student जिसे B. E. करनी है, उसके पास ये निम्लिखित योग्यता और शिक्षा होनी चाहिए :

1) भारत का नागरिक होने चाहिए या फिर NRI हो तो भारत सरकार से Admission का Allowance Letter होना चाहिए।

2)12th Board Exams को Minimum 60℅ से Pass किया होना चाहिए। हालांकि कई Institutions इससे कम Percentage वाले Students को भी Admission देते है पर उन Institutions से की गई Degree की कुछ खास अहमीयत नहीं होती है।

3)Engineering University में Admission लेने के लिए Entrance Exam को Pass करना होता है।

4)Government Institutions IIT या NIT में Admission लेने के लिए Exam Fight करना पड़ता है जिसके बाद Cut Off Based Selection होता है।

Subjects of BE in Computer Science and Engineering

Bachelor Of Engineering में मुख्य Subject Maths, Physics और Chemistry होते हैं। Branches के हिसाब से Subjects और Syllabus को बनाया जाता है।

Also read about Full form of PC.

BE (CSE) के Syllabus को Semester Wise Divide किया गया है। हर एक Semester के Subjects का Syllabus अलग अलग हैं।

BE-CSE के Subjects इस प्रकार हैं:

1st 2nd सेमेस्टर:

  • इंजीनियरिंग गणित – I
  • इंजीनियरिंग गणित – II
  • इंजीनियरिंग भौतिकी
  • इंजीनियरिंग रसायन विज्ञान
  • C और डेटा संरचनाओं में प्रोग्रामिंग
  • कंप्यूटर प्रोग्रामिंग प्रयोगशाला
  • सिविल इंजीनियरिंग के तत्व और इंजीनियरिंग यांत्रिकी
  • कंप्यूटर एडेड इंजीनियरिंग ड्राइंग
  • भाषा (अंग्रेजी / अन्य )
  • मैकेनिकल इंजीनियरिंग के तत्व
  • बेसिक इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग
  • बेसिक इलेक्ट्रॉनिक्स
  • भारत के संविधान और व्यावसायिक नीति
  • पर्यावरण अध्ययन
  • इंजीनियरिंग भौतिकी लैब
  • इंजीनियरिंग रसायन विज्ञान लैब
  • कार्यशाला अभ्यास

3rd Semester:

  • इंजीनियरिंग गणित – III
  • इलेक्ट्रॉनिक सर्किट
  • तर्क डिजाइन
  • पृथक गणितीय संरचनाएं
  • सी के साथ डेटा संरचनाएं
  • सी ++ के साथ ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग
  • सी / सी ++ प्रयोगशाला के साथ डेटा संरचनाएं
  • इलेक्ट्रॉनिक सर्किट और तर्क डिजाइन प्रयोगशाला

4th Semester:

  • इंजीनियरिंग गणित – IV
  • ग्राफ़ थ्योरी और कॉम्बिनेटरिक्स
  • एल्गोरिदम का डिजाइन और विश्लेषण
  • यूनिक्स और शैल प्रोग्रामिंग
  • माइक्रोप्रोसेसर
  • कम्प्यूटर संगठन
  • एल्गोरिदम के डिजाइन और विश्लेषण ● प्रयोगशाला
  • माइक्रोप्रोसेसरों प्रयोगशाला

5th Semester:

  • सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग
  • सिस्टम सॉफ्टवेयर
  • ऑपरेटिंग सिस्टम
  • डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम
  • कंप्यूटर नेटवर्क – I
  • औपचारिक भाषाएं और स्वमाता सिद्धांत
  • डाटाबेस एप्लीकेशन लैबोरेटरी
  • सिस्टम सॉफ्टवेयर और ऑपरेटिंग सिस्टम ● प्रयोगशाला

6th Semester:

  • प्रबंधन और उद्यमिता
  • यूनिक्स सिस्टम प्रोग्रामिंग
  • कंपाइलर डिजाइन
  • कंप्यूटर नेटवर्क – II
  • कंप्यूटर ग्राफिक्स और विज़ुअलाइज़ेशन
  • कंप्यूटर ग्राफिक्स और विज़ुअलाइज़ेशन
  • प्रयोगशाला
  • यूनिक्स सिस्टम प्रोग्रामिंग और कंपाइलर
  • डिज़ाइन प्रयोगशाला

7th Semester

  • वस्तु उन्मुख मॉडलिंग और डिजाइन
  • एम्बेडेड कंप्यूटिंग सिस्टम
  • वेब प्रोग्रामिंग
  • उन्नत कंप्यूटर वास्तुकला
  • इलैक्टिव 2 – समूह – बी
  • उन्नत डीबीएमएस
  • डिजिटल सिग्नल प्रोसेसिंग
  • जावा और जे 2 ईई
  • मल्टीमीडिया कम्प्यूटिंग
  • डाटा वेयरहाउसिंग और डाटा माइनिंग
  • तंत्रिका नेटवर्क

8th  Semester

  • सॉफ्टवेयर आर्किटेक्चर
  • सिस्टम मॉडलिंग और सिमुलेशन

अपने Bachelor of Engineering का abbreviation तो जान लिया. अब आपको एक knowledge और दें की B.E. और B.Tech दोनों है Bachelor Degrees हैं और इन दोनों का Basic Concept भी एक जैसा ही है पर इन दोनों में कुछ अंतर भी है।

Difference between B.E. & B.Tech Degree / बी.ई और बी-टेक डिग्री के बीच में अन्तर

इन दोनों डिग्री के बीच के कुछ अन्तर इस प्रकार हैं:

1) Bachelor of Engineering का Course mainly Theoretical Knowledge पर Based होता है जिससे Technology को Innovate किया जाता है जबकि B. Tech Degree में Application और Skill Based Study पर Focus किया जाता है। सरल भाषा में कहा जाए तो B. E. Theoretical होती है जबकि B.Tech Practical Knowledge दी जाती है।

Also Know these full forms: 

B-Tech full form kya hai

What is M Tech full form 

2) B.E. Course को Knowledge Oriented माना जाता है जिसमें Theoretical Knowledge दी जाती है जबकि B. Tech Skill Oriented है जिसमें Practical Knowledge दी जाती है।

3) यह Degree कराने वाले Institute और University ज्यादातर Private होती है जबकि B.Tech में वही Government University होती हैं।

4) बी.ई. में Course के दौरान Companies Internship के लिए Visit कर भी सकती हैं और नहीं भी जबकि B.Tech degree Course में Companies Internship के लिए आती ही हैं।

What To Do after Doing BE Degree Course / Scope After BE Degree

इस Degree (Bachelor of Engineering) करने के बाद कई सारी चीजें हैं जिन्हें Student कर सकता है। जैसे:

  • Career resource center में Enroll करना।
  • Campus interviews और placements के लिए Apply करना।
  • M.Tech या MBA Degree करके पढ़ाई को जारी रखना।
  • Apply For Civil Services
  • Career counselor (सलाहकार) से संपर्क करना।
  • Internship के लिए apply करना।
  • Volunteer participation करना।

Conclusion:

Job opportunity after BE course/ बी.ई. के बाद जॉब

Bachelor of Engineering Degree करने के बाद Job Selected Branch के According मिलती हैं। जैसे अगर आपने B.E. (CSE) किया है तो आपको नीचे दी गयी Jobs मिल सकती हैं:

  • Application Analyst.
  • Applications Developer.
  • Data Analyst.
  • Database Administrator.
  • Games Developer.
  • Information Systems Manager.
  • IT Consultant.
  • Multimedia Programmer आदि।

B.E. Degree करने के बाद आपके पास एक ऐसी Degree होती है जिसकी मदद से आप अपने Career को एक अलग ऊँचाई पर ले जा सकते हैं।

Know more about BE Degree & Its full info in Wikipedia.

प्रिय पाठक,  आपको information about BE Full Form  कैसी लगी हमें कमेंट्स में जरूर बताइए. अगर Full form of BE के इस पेज में कोई गलती होतो भी हमें सूचित करे हम इसे अपडेट करेंगे. इस पोस्ट को सोशल मीडिया में जरूर शेयर करे. क्योकि शेयरिंग से दुसरो का फायदा होता है उनकी knowledge बढती है. Knowledge is power.

यहाँ तक पढने के लिए Thanks!

Leave a Comment

YOUR EXISTING AD GOES HERE
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: