YOUR EXISTING AD GOES HERE

ISI ka Full Form | BIS Full Form Kya Hai

YOUR EXISTING AD GOES HERE

दोस्तो, आपने ISI के बारे में सुना होगा। ISI की कई अलग अलग Full-Forms होती हैं। तो कहीं आपको इस Abbreviation को लेकर कोई कंफ्यूज़न न हो इसलिए आज इस ज़रिए हम आपको ISI Full Forms बताएंगे।

ISI Full Form | BIS Full form in HIndi

YOUR EXISTING AD GOES HERE

ISI ka Full Form Kya Hai / BIS Full Form Kya Hai?

ISI full form in Hindi : आई एस आई को हिंदी में भारतीय मानक संस्थान कहा जाता है। ISI की स्थापना 1947 में की गई थी। बाद में इसका नाम बदलकर Bureau of Indian Standards (BIS)  कर दिया गया।

इसका मुख्य Objective Consumer और Industrial Goods के लिए गुणवत्ता मानकों को पूरा करना है। Products की Testing के लिए ISI ने भारत के अलग अलग शहरों में Laboratories बनाई हुई है ताकि प्रोडक्ट्स की क्वालिटीज की जांच की जा सकें। ISI National और International दोनों की स्तरों पर सामान्य मानकों (General Standards) को बढ़ावा देता है।

YOUR EXISTING AD GOES HERE

ISI Mark & Products Use ISI Mark

किसी Product की Quality और Service को बनाए रखना भारतीय मानक ब्यूरो (Bureau Of Indian Standards) का प्रमुख काम है। किसी प्रॉडक्ट की Quality, Reliability और Safety सुनिश्चित करने के बाद BIS उस प्रॉडक्ट को Third Party Guarantee के तौर पर ISI Mark देता है। कंस्यूमर्स की क्वॉलिटी से जुड़ी Complaints की जांच-पड़ताल कर उन पर कार्रवाई करना BIS का एक और काम है।

ISI Mark को हिंदी में आईएसआई चिह्न कहते हैं। ये एक Certified Mark होता है जो आपको मार्केट में उपलब्ध कई Products पर मिल जाएगा। ISI Mark की स्थापना 1955 में हुई थी और इस Mark को किसी Product के लिए Company को ISI के ज़रिए दिया जाता है।

भारत में खई ऐसे Indian Standards Institute हैं जो Product की Quality की सही तरह से जांच करते हैं। अगर आप एक Producer हैं और मार्केट में Customer Base अच्छा बनाना चाहते हैं तो उसके लिए आपको अपने Product की क्वालिटी को 100% साबित करना होता होगा। यहां आपको ISI Mark की ज़रूरत पड़ती है।

YOUR EXISTING AD GOES HERE

इसके लिए आपको भारतीय मानक संस्थान यानि Indian Standards Institute में Apply करना होगा और अपना Product सब्मिट करना होगा। ISI आपके प्रोडक्ट की जांच करेगा और सारों मानकों पर खरा उतरने के बाद आपके ISI Mark Certificate दिया जाएगा।

ISI Mark का इस्तेमाल कर बेचे जाने वाले Products

  • Switch
  • Electricity Motor
  • Wire
  • Cable
  • Cement
  • Gas Cylinder
  • Automotive Tier
  • Packed Drinking Water
  • Packed Mineral Water
  • Milk Powder
  • Condensed Milk
  • Ready to Eat Baby Food
  • Baby Milk Powder
  • Electrical Appliance
  • Protection Device
  • Dry Battery
  • Clinical Thermometer
  • Diagnostic Medical X-Ray Equipment
  • Steel
  • Pressure Cooker Etc

आई एस आई के दुसरे फुल फॉर्म / Other Full Form of ISI:

ISI- Inter-Service Intelligence

जैसे भारत में Raw यानि रिसर्च एंड एनालि‍सिस विंग एक खुफिया एजेंसी है उसी तरह Inter-Service Intelligence (ISI) Pakistan की खुफिया एजेंसी है। आईएसआई की स्थापना 1948 में की गई थी। 1950 में पूरे पाकिस्तान की Internal And External Security का जिम्मा आईएसआई को सौंप दिया गया।

Inter-Service Intelligence की नींव ऑस्ट्रेलियाई मूल के British Army Officer Major General R. Cathom ने रखी थी जो उस समय Pakistani Army Staff के मुख्य थे। बता दें कि इसमें Army के तीनों अंगों के Officers मिलकर आईएसआई के लिए काम करते हैं। पूर्व में इसका मुख्यालय Rawalpindi में था और इसे “Intelligence Bureau” (IB) के नाम से जाना जाता था।

वर्तमान में आईएसआई का मुख्यालय Islamabad में है और लेफ्टिनेंट जनरल अहमद शूजा पाशा इसके Director हैं। वर्तमान में इसके Staff में लगभग 25 हजार लोग हैं। अगर इसके कामों की बात की जाए तो ये Agency दूसरे देशों में हो रहे Army व Political बदलावों व Development पर नजर रखती है, जिसका सीधा प्रभाव Pakistan की National Security व्यवस्था पर पड़ता हो। इलके अलावा ISI दूसरे देशों की Secret Information इकट्ठा कर Country की security arrangement में उचित बदलाव करती है।

YOUR EXISTING AD GOES HERE

America Crime Report के मुताबिक, आईएसआई को सबसे Powerful Agency बताया गया था। हालांकि आईएसआई पर आए दिन Terrorism को बढ़ावा देने के आरोप लगते रहे हैं।

ISI- Indian Statistical Institute

Indian Statistical Institute (ISI) एक Research Institute है जिसकी शुरूआत 1931 में Prasanta Chandra Mahalanobis द्वारा की गई थी। इसका कार्य Statistics का शिक्षण, Statistics में Research और दूसरे वैज्ञानिक व सामाजिक Genre में Statistics का अनुप्रयोग करना है।

इसको सन् 1959 में Indian Parliament के एक Act द्वारा Institute Of National Importance का गौरव प्राप्त है। इसका हेडक्वार्टर कोलकाता में है और उसके अलावा Delhi, Tezpur, Chennai और Bengaluru में इसके सेंटर्स बने हुए हैं।

Academics के लिए कोलकाता, दिल्ली और बंगलुरू में सेंटर बनाए गए हैं जबकि भारत के अन्य सात शहरों में स्थित इसकी Branches ‘Statistical Quality Control’ And ‘Operations Research’ के क्षेत्र में सलाह प्रदान करतीं हैं। वर्तमान Director प्रोफेसर बिमल रॉय कुमार और Dean Of Study प्रोफेसर भबानी प्रसाद सिन्हा है (2010 से)। इस University को Statistics पर फोकस करने वाली भारत की सबसे पुरानी और सबसे मशहूर यूनिवर्सिटी माना जाता है।

Courses offered by Indian Statistical Institute (ISI)

Undergraduate Programs (3 Years)

  • Bachelor of Statistics (Honours) (B.Stat)
  • Bachelor of Mathematics (Honours) (B. Math)

Graduate Programs (2 Years)

  • Master of Statistics (M. Stat)
  • Master of Mathematics (M. Math)
  • Master of Science in Quantitative Economics (MSQE)
  • Master of Science in Library And Information Science (MSLIS)
  • Master of Science in QM (Quality Management) Science [(MS(QMS)]
  • Master of Technology in Computer Science (Mtech–CS)
  • Master of Technology in Quality, Reliability and Operations Research (Mtech–Qror)

Pg Diploma Programs

बता दें कि PGDBA डिप्लोमा के लिए Indian Statistical Institute ने IIM Calcutta और IIT Kharagpur के Collaborate किया है ताकि स्टूडेंट्स में प्रोफेशनल बिजनेस स्किल्स Develop की जा सकें।

दोस्तों एस लेख में आपको ISI ka full form & ISI details in Hindi के बारे में सीखने का मौका मिला. आपकी इस पोस्ट के बारे में क्या राय है लेख पर कमेंट करके बताइए. अगर आपका कोई सवाल है तो भी कमेंट करिए .

Leave a Comment

YOUR EXISTING AD GOES HERE
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: