Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

Republic Day Essay | गणतंत्र दिवस निबन्ध

आज आपको गणतंत्र दिवस (Republic Day) क्या है और इसे क्यों celebrate किया जाता है,  इसबारे में Republic Day Essay in Hindi / निबन्ध के द्वारा आपको कुछ रोचक जानकारियां दे रहे है.

भारत में अलग अलग धर्मों के कई पर्व होते हैं, लेकिन गणतंत्र दिवस एक ऐसा राष्ट्रीय पर्व है जिसे देश के हर धर्म और जाति के लोग एक साथ मनाते हैं. ये पर्व किसी विशेष संप्रदाय, जाति से जुड़ा नहीं बल्कि समूचा हिंदुस्तान इसे मनाता है. हर साल राष्ट्रीय पर्व गणतंत्र दिवस 26 जनवरी को मनाया जाता है. साल 1950 में इसी दिन देश का संविधान लागू हुआ था और हमारा भारत देश पूर्ण रुप से एक गणराज्य घोषित हुआ था.

Republic Day Essay in Hindi

क्यों मनाया जाता है गणतंत्र दिवस / Why We Celebrate Republic Day in India?

भारतीय इतिहास के 26 जनवरी, 1950 एक बेहद खास तारीख है, इस दिन भारत का संविधान अस्तित्व में आया था. जानना दिलचस्प है कि हमारे देश का संविधान सबसे लंबा संविधान है और इसे तैयार करने में 2 साल, 11 महीने और 18 दिन लगे थे. भारतीय संविधान को कई अलग अलग देशों के संविधान से लेकर तैयार किया था. भारतीय संविधान के वास्तुकार डॉ.भीमराव अम्बेडकर प्रारूप समिति के अध्यक्ष थे.

हालांकि देश का संविधान नंवबर 1949 में ही बनकर तैयार हो गया था, लेकिन 26 जनवरी को एक यादगार दिवस बनाने के लिए संविधान भी 26 जनवरी, 1950 को लागू किया गया. दरअसल 26 जनवरी की तारीख भारत की आजादी की लड़ाई के लिए बेहद खास तारीख है. 26 जनवरी, 1929 को लाहौर अधिवेशन में कांग्रेस ने पूर्ण स्वराज की घोषणा की थी और 26 जनवरी को पूर्ण स्वराज दिवस पर मनाया जाता है और संविधान लागू होने के बाद गणतंत्र दिवस भी.

गणतंत्र का क्या अर्थ है / What is Meaning of Republic

गणतंत्र या गणराज्य सरकार का एक ऐसा रुप है जहां देश एक सार्वजनिक मामला माना गया है, ये न किसी शासक की निजी संस्था है और न ही सम्पत्ति. एक गणतंत्र देश में सत्ता विरासत में नहीं मिलती, बल्कि आम लोगों के द्वारा अपने प्रतिनिधित्व को चुना जाता है.

रिपब्लिक डे यानि 26 जनवरी 1950 को 10 बजकर 18 मिनट पर देश का संविधान लागू हुआ था. पांच साल के बाद यानि 26 जनवरी 1955 को दिल्ली के राजपथ पर पहली परेड का आयोजन हुआ था. पहले गणतंत्र दिवस के मौके पर भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद ने 10 बजकर 24 मिनट पर अपने पद की शपथ ली थी.

अन्य त्योहारों के निबन्ध हिंदी में पढ़िए 

कैसे 26 January / Republic Day का उत्सव मनाते हैं?

गणतंत्र दिवस के मौके पर पूरा देश राष्ट्रीयता के रंग में रंग जाता है. संस्थानों में देशभक्ति से जुड़े हुए कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है. देश की राजधानी दिल्ली में गणतंत्र दिवस पर विशेष कार्यक्रम का आयोजन होता है.

भारत देश को गौरवशाली गणतंत्र राष्ट्र बनाने में जिन देशभक्तों और शहिदों ने अपना बलिदान दिया उन्हें 26 जनवरी के दिन याद किया जाता और उन्हें श्रद्धाजंलि दी जाती है. प्रधानमंत्री इंडिया गेट पर अमर जवान ज्योति को नमन करते हैं. गणतंत्र दिवस की तैयारियां महीनों पहले ही शुरु कर दी जाती है. गणतंत्र दिवस के मौके पर महामहिम तिरंगा फहराते हैं और हर साल 21 तोपों की सलामी दी जाती है.

26 जनवरी को परेड मुख्य आकर्षण होती है. इस दिन के लिए देश और विदेश से विशेष मेहमानों को बुलाया जाता है. 2019 गणतंत्र दिवस के लिए साउथ अफ्रीका के राष्ट्रपति सायरिल रामापोसा को मुख्य अतिथि के तौर पर बुलाया गया है. परेड में हमारी तीनों सेनाएं-जल, थल, वायु राष्ट्रपति को सलामी देती हैं.

गणतंत्र दिवस की कुछ खास जानकारियां / Important Facts About Republic Day:

बहुत कम लोग जानते हैं कि 29 जनवरी को विजय चौक पर रिट्रीट सेरेमनी आयोजित की जाती है और इस सेरेमनी में भारतीय सेना, 9 वायुसेना और नौसेना के बैंड हिस्सा लेते है. ये सेरेमनी गणंतत्र दिवस के समापन के तौर पर होती है.

रिपब्लिक डे / 26 जनवरी की परेड-

Republic Day Parade in New Delhi
Photo Source: https://commons.wikimedia.org

गणतंत्र दिवस पर दिल्ली के विजय चौक से लाल किले तक होने वाली परेड आकर्षण केंद्र रहती है. इस दिन परेफेक्शन के साथ परेड निकालने के लिए कई महीनों पहले इसकी तैयारियां की जाती है. इस परेड में स्कूली बच्चों की टुकड़ियां, दिल्ली पुलिस की परेड, झाकियां, सांस्कृतिक नृत्य आदि शामिल होते हैं. सेना परेड हमेशा राजपथ पर होती है जहां पहली बार परेड निकाली गई थी. परेड के दौरान सेना के द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले हथियारों, प्रक्षेपास्त्र, टैंकों का प्रदर्शन किया जाता है. इस परेड के माध्यम से सैनिकों की शक्ति को दर्शाया जाता है. ये भव्य झांकी हर किसी का मन मोह लेती है.

गणतंत्र दिवस पर पूरा देश राष्ट्रभक्ति के गीतों से गूंज उठता है. बच्चों में विशेष रुप से उत्साह देखने को मिलता है. गतंत्र दिवस पर आयोजित कार्यक्रमों में बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले प्रतिभाशाली बच्चों को पुरस्कार दिया जाता है.

छोटी सी दिल्ली में कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक के लोग शामिल होते हैं और इस तरह पूरा भारत एक ही उत्सव में सिमट सा जाता है. परेड को और भी ज्यादा आकर्षक बनाने का काम करते हैं एनसीसी के कैडट्स. अलग अलग राज्यों के कैडेट्स दिल्ली कैंट के गैरीसन मैदान में एकत्रित होते हैं गणतंत्र दिवस की परेड में हिस्सा लेते हैं. बता दें कि समूचे भारत में एनसीसी की 16 क्षेत्रों में बंटी हुई 774 यूनिट्स हैं. इनमें कुल 13 लाख कैडेट्स शामिल होते हैं जिनमें 17 फीसदी लड़कियां होती हैं.

गणतंत्र दिवस पर पुरस्कार-

गणतंत्र दिवस पर विभिन्न श्रेणियों में राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार दिए जाते हैं. ये पांच श्रेणियां हैं- भारत पुरस्कार, गीता चोपड़ा पुरस्कार, संजय चोपड़ा पुरस्कार, बापू गैधानी पुरस्कार, सामान्य राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार.

देश की रक्षा के लिए बलिदान देने वाले सैनिकों को भी पुरस्कृत किया जाता है. उच्च श्रेणी की वीरता के लिए उन्हें परमवीर चक्र, वीर चक्र और महावीर चक्र दिया जाता है

देश की सुरक्षा-

गणतंत्र दिवस के मौके पर सबसे ज्यादा जरुरी होती है भारत देश की सुरक्षा. कई दहशतगर्द भारत को नुक्सान पहुंचाने के लिए इस दिन का फायदा उठाना चाहते हैं लेकिन उनको उनके मंसूबों में नाकामयाब बनाने के लिए पूरे देश खासतौर पर दिल्ली की सुरक्षा को बढ़ा दिया जाता है. दिल्ली के सार्वजनिक स्थानों पर चैकिंग को सख्त कर दिया जाता है.

26 जनवरी से पहले कुछ दिन रिहर्सल की जाती है, जिसके लिए सुरक्षा के मद्देनजर कुछ रास्तों को बंद कर दिया जाता है. इस बार पैराग्लाइडर, पैरा मोटर्स, हैंग ग्लाइडर्स, यूएवी, यूएस, एयरक्राफ्ट, ड्रोन आदि पर रोक लगा दी गई है. ये रोक 9 जनवरी को ही लगा दी गई थी और आने वाली 9 फरवरी तक इनपर प्रतिबंध रहेगा.

दोस्तों आपको यह गणतंत्र दिवस का निबन्ध यानि Republic Day Essay in Hindi कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताइए और इसे फेसबुक, ट्विटर आदि पर जरूर शेयर करिए. धन्यवाद्,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.