CBSE vs ICSE | Difference & Facts | जानिए दोनों बोर्ड में अंतर & खास बातें


[responsivevoice_button voice="Hindi Female" buttontext="इस आर्टिकल को सुनिए"]

दोस्तों इस पोस्ट में आपको CBSE vs ICSE यानि Difference Between CBSE & ICSE Board / दोनों boards में कुछ सामान्य अन्तर के बारे में जानकारी देंगे.

CBSE vs ICSE : दोनों ही Board Of Education हैं पर इनमें कई सारे अंतर भी हैं।
CBSE Vs ICSE Board in HIndi

Central Board of Secondary Education / केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE full form in Hindi) National Level के कई सारे Exams को Conduct कराता है। यह भारत में सबसे पसंदीदा BOE है। यह अतिरिक्त विषय के साथ-साथ राष्ट्रीय पाठ्यक्रम का भी अनुसरण करता है। CBSE दो Exams को Conduct करता है – All India Secondary School Examination, AISSE (10वीं कक्षा) और All India Senior School Certificate Examination, AISSCE (12वीं कक्षा). CBSE का Syllabus NCERT Pattern पर बनता है।

जबकि Indian Certificate Of Secondary Education (ICSE Full Form) को CISCE या Council for the Indian School Certificate Examination द्वारा Conduct करवाया जाता है। उसी तरह इस तरह CBSE को AISSE द्वारा Conduct कराया जाता है। ICSE का SSC Level Exam भारत का Grade 10 का सबसे कठिन Exam माना जाता है।

ये भी जानिए : NCERT Meaning in Hindi

Difference Between CBSE & ICSE Board / दोनों में कुछ सामान्य अन्तर:

1- Medium of Instruction:

CBSE के जुड़े Schools English या Hindi माध्यम में से कोई भी हो सकते हैं जबकि ICSE Schools सिर्फ़ English माध्यम ही होते हैं।

2- Regular और Private Candidates:

CBSE से भारत में कई सारे Schools जुड़े हैं। CBSE की एक खास बात ये है कि इसमें पढ़ रहा विद्यार्थी Regular और Private Education में से चुन सकता हैं जबकि ICSE School में पढ़ रहे विद्यार्थी के पास ऐसा कोई विकल्प उपलब्ध नहीं होता। ICSE सिर्फ Regular Based Candidates को ही Admission देती है।

3- Board Recognition:

CBSE को भारत सरकार (Govt. of India) द्वारा recognize किया जाता है जबकि ICSE को नहीं। हालांकि CBSE और ICSE दोनों के Certificates को बराबर की मान्यता है फिर भी भारत में CBSE की Recognition ICSE से ज्यादा है। International Level पर दोनों ही बोर्ड बराबर मान्यता वाले होते हैं।

Amazon Best Selling Laptops

4- Curriculum/Course Content:

CBSE द्वारा बनाया गया Syllabus National Level पर हो रहे Exams में काफी मददगार होता है जिससे Students को काफी फ़ायदा मिलता है। जबकि ICSE का Syllabus काफी Detailed और बड़ा होता है और विद्यार्थी को काफी कुछ याद रखना पड़ता है। CBSE और ICSE का Syllabus काफ़ी अलग हैं फिर भी CBSE ICSE के मुकाबले काफी आसान है। CBSE का ज्यादातर भाग Science पर Focused होता हैं और काफी Knowledge Based होता है जबकि CISCE (ICSE) का Syllabus बहुत Balanced होता है और हर भाग पर बराबर ध्यान दिया जाता हैं जैसे Literature, Art आदि।

5- Assignments:

ICSE में Assignments Practical और Literal Based होती है जो कि Student की Practical Knowledge बढ़ाती है जबकि CBSE की ज्यादातर Assignments Literal होती है जिससे Student की Practical Knowledge नहीं बढ़ती।

Which is better CBSE or ICSE ?/ सीबीएसई और आईसीएसई में बेहतर कौन है

ICSE और CBSE दोनों ही Board of education अपने अपने स्थान पर सही हैं। दोनों में कुछ खूबियां हैं तो कुछ कमियां। फिर भी अगर मोठे तौर पर देखा जाए तो CBSE ICSE से बेहतर है। CBSE द्वारा बनाया गया Syllabus National Level पर हो रहे Exams में काफी मददगार होता है जिससे Students को काफी फ़ायदा मिलता है।

CBSE भारत देश   में Recognized BOE जिससे Private Sector की नौकरी लेने में कोई परेशानी नहीं होती। CBSE का Exam Pattern Mind Knowledge पर based रहता है। ऐसे ही कई सारे कारणों से CBSE को ICSE से बेहतर कहा जा सकता है।

Official Website CBSE Board.
Official Website of CISCE for ICSE Board.

Watch ICSE vs CBSE Board analysis Video by Topper Street

दोस्तों आपको CBSE vs ICSE Board यानि इन दोनों बोर्ड के अंतर को समझाने के लिए ये पोस्ट पब्लिश की है. आपकी क्या राय है हमें जरूर बताइए & इसे सोशल मीडिया, & ग्रुप्स में जरूर शेयर करिए 10th के स्टूडेंट्स को अपना बोर्ड चुनने में हेल्प मिल सके.

Leave a Comment

error: Content is protected !!