Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

KYC Form & Documents Kya hai | केवाईसी फॉर्म कैसे भरें

KYC Means in Hindi: दोस्तों आज आप कही भी अपना अकाउंट open करवाना चाहें, या Paytm, MobiKwik जैसे किसी भी wallet में पैसे ट्रान्सफर करने हो आपको अपना KYC form कम्पलीट करना पड़ता है और यह mandatory यानि आवश्यक हो गया है. आइये आपको KYC kya hai & इसकी importance क्या है इसकी जानकारी देते है.

KYC Means, Forms for Bank KYC

What is KYC / Meaning of KYC in Hindi

KYC का meaning है Know Your Customer. यह बैंकिंग और वित्तीय क्षेत्र में प्रयोग किया जाने वाला एक popular word है. KYC एक process है जिसमे बैंक या वित्तीय कंपनी या संस्थान अपने ग्राहकों की पहचान (Identity) और पते का प्रमाण (Address Proof) की फोटोकॉपी / documents customer या ग्राहक से लेकर अपने KYC रिकॉर्ड में रखते है.

भारत सरकार ने पहचान के प्रमाण के लिए प्रयोग करने के उद्देश्य से छह documents को ‘आधिकारिक रूप से वैध दस्तावेज (OVDs) के रूप में अधिसूचित किया है। जो आपको इसी पोस्ट में आगे बताएँगे.

यहां तक कि जब आप पहले से ही एक बार केवाईसी दस्तावेज (KYC Documents) जमा करते हैं, तो Banks or Financial Institutions फिर से पूछ सकते हैं क्योंकि उन्हें समय-समय पर KYC records अपडेट करने की आवश्यकता होती है। यह बैंक accounts पर उनके चल रहे एक रूटीन कार्य का एक हिस्सा है। ऐसे अपडेशन की समय समय पर जरूरत बैंक की Risk की धारणा के आधार पर खातों या other types के accounts की अलग-अलग होगी।

चाहे बैंक खाता खोलना हो , म्युचुअल फंड खाता, बैंक लॉकर, म्युचुअल फंड में ऑनलाइन invest करना हो. अपने KYC को बैंक के साथ updated रखना चाहिए।

ये भी जानिए :

ATM ki full form info

EMI full form Kya hai

India ka full form & jankari Hindi me 

GST ka full form & jankari

पहचान और पते का प्रमाण पर प्रयोग होने वाले documents की एक list है:

  • पासपोर्ट,
  • ड्राइविंग लाइसेंस,
  • मतदाता पहचान पत्र,
  • पैन कार्ड,
  • आधार कार्ड और यूआईडीएआई और नरेगा कार्ड द्वारा जारी किया गया है।

ध्यान दीजिये : आपको पहचान के प्रमाण के रूप में इनमें से किसी एक दस्तावेज को जमा करना होगा। यदि इन दस्तावेजों में आपके पते का विवरण भी है, तो इसे ‘पते के प्रमाण’ के रूप में स्वीकार किया जाएगा। यदि पहचान के प्रमाण के लिए आपके द्वारा प्रस्तुत दस्तावेज में पते का विवरण नहीं है, तो आपको एक और आधिकारिक रूप से वैध दस्तावेज जमा करना होगा जिसमें पते का विवरण है।

पते का विवरण / एड्रेस प्रूफ के लिए डाक्यूमेंट्स :

यूटिलिटी बिल जैसे-

  • टेलीफोन बिल,
  • बिजली बिल,
  • गैस बिल,
  • बैंक पास बुक / अकाउंट स्टेटमेंट, जो नियोक्ता से बैंकर से मेल या कूरियर द्वारा प्राप्त किया गया हो,
  • राशन कार्ड
  • लेटर – वाणिज्यिक बैंकों के बैंक प्रबंधक द्वारा हस्ताक्षर सत्यापन के साथ।
  • कई बैंक और वित्तीय संस्थान व्यक्तियों को प्रमाण जमा करने से पहले आत्म-सत्यापन करने के लिए कहते हैं और यह सत्यापन के लिए मूल दस्तावेजों के साथ होना चाहिए।
  • यदि आवश्यक हो तो दस्तावेजों को अटेस्ट करने के लिए अधिकृत संस्थाओं द्वारा संपत्ति को सत्यापित किया जाना चाहिए। नोटरी पब्लिक, राजपत्रित अधिकारी, वाणिज्यिक / सहकारी बैंक के प्रबंधक के साथ नाम तिथि और मुहर।

Importance of KYC/ क्यों जरूरी है केवाईसी?

केवाईसी महत्वपूर्ण है क्योंकि यह बैंकर को यह सुनिश्चित करने में मदद करता है कि आवेदन और अन्य विवरण वास्तविक हैं। खातों से funds की धोखाधड़ी और घपलेबाजी की घटनाएं हुई हैं।

व्यक्तियों की पहचान सुनिश्चित करने से धोखाधड़ी को रोकने में मदद मिलेगी। KYC प्रैक्टिस पिछले कई सालों से प्रचलन में है। इसे सभी व्यक्तियों को अनुपालन करना चाहिए, अगर वे account open करने की इच्छा रखते हैं। केवाईसी प्रक्रिया के बिना म्यूचुअल फंड के लिए बैक अकाउंट या खाता खोलना संभव नहीं है।

KYC किसे करवानी चाहिए?

जो लोग एक बैंक खाता खोलना चाहते हैं, डीमैट और स्टॉक ट्रेडिंग खाता, दूसरे बैंक में एफडी खोलते हैं, उन्हें निश्चित रूप से केवाईसी आवश्यकताओं का पालन करना होगा। आप अपने ग्राहक दस्तावेज को जाने बिना कोई भी खाता नहीं खोल सकते।

वास्तव में, अब आपको डीमैट और ट्रेडिंग खाता खोलने से पहले इन केवाईसी मानदंडों का पालन करने के लिए भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (SEBI) के दिशानिर्देशों के अनुसार यह अनिवार्य है। जब तक आपके पास KYC documents नहीं होंगे तब तक बैंक भी खाता नहीं खोलेंगे।

अब आपको यह बताएँगे की KYC form ऑनलाइन download कहा से kare & कैसे fill करिए.

List of KYC Form SBI, Paytm, PNB, ICICI Axisbank & Mutual Funds

KYC Form SBI / State Bank of India KYC Form:

वीडियो में सीखिए SBI KYC Form कैसे भरें –

Paytm KYC kare & और कमाइए 200 Rs (Online Verification OTP द्वारा ).

विडियो में जानिए बिना KYC सेंटर जाये कैसे PAYTM KYC पूरी करे और Rs. 200 कमाइए:

KYC Form PNB (Panjab National Bank)

Axis Bank KYC Form

KYC form Bank of Baroda customers

RE-KYC form for HDFC Bank customers

ICICI Bank KYC Form for Individuals

List of KYC form for Mutual Funds

अगर आपने म्यूच्यूअल फण्ड खरीदना है तो नीचे दी गयी कम्पनीज के Know Your Customer फॉर्म फिल करके KYC Documents जमा कर सकते है. E-KYC के लिए नीचे दिए गए विडियो को देखिये.

CAMS – KYC Form for Mutual Funds

AMFI – Association of Mutual Funds in India KYC Form

जिस कम्पनी का म्यूच्यूअल फण्ड है उसकी साईट में भी जाकर KYC form fill कर सकते है.

जानिए EKYC फॉर्म कैसे भरे और E-KYC करके म्यूच्यूअल फण्ड में invest kare.

Conclusion:

KYC का मतलब Know Your Customer है. यह एक प्रक्रिया है जिसमे बैंक या Financial Institutions अपने ग्राहकों के पहचान और पते के बारे में आवश्यक और authentic documents KYC forms के साथ collect करते है. भारत देश में यह एक जरूरी प्रक्रिया है इसके बिना bank account, Mobile wallet & mutual fund में account खोलना / invest करना / fund transfer करना संभव नहीं है.

Friends इस पोस्ट में Information about KYC meaning,  documents, forms & process की जानकारी दी है. हमेंआशा है आपको यह पसंद आई होगी. अगर आपको इससे आपको KYC में थोड़ी भी help मिली है तो इसे Facebook, twitter & Whatsapp groups में जरूर शेयर करिए.

अगर आपका कोई सवाल या सुझाव है तो हमें कमेंट द्वारा जरूर बताइए. हम आपकी मदद करने का पूरा प्रयास करेंगे.

धन्यवाद्.

Originally posted 2019-01-03 23:22:41.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.